श्रीमती रूबी श्रीवास्तव
निदेशक, वित्त

श्रीमती रूबी श्रीवास्तव, भारतीय राजस्व सेवा के 1986 बैच की अधिकारी हैं। आपने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से बीएससी ऑनर्स व एमएससी की शिक्षा प्राप्त की व तत्पश्चात आपने दिल्ली विश्वविद्यालय से विधि स्नातक पाठ्यक्रम पूर्ण किया। आपने, वर्ष 1986 में भारतीय राजस्व सेवा में आने से पहले, अपने कैरियर का प्रारंभ प्रॉविंसियल सिविल सर्विस के 1984वें बैच में शीर्षस्थ‍ स्थान प्राप्त कर सब-डिवीजनल मैजिस्ट्रेट (प्रशिक्षु) के रूप में किया। अपने 18 माह के भारतीय राजस्व सेवा व्यवसायिक पाठ्क्रम के दौरान पहले ही प्रयास में आयकर कानून, एकाउंटेंसी, कॉर्पोरेट टैक्स, वेल्थ टैक्स, गिफ्ट टैक्स व बुक कीपिंग की अपनी विभागीय परीक्षाओं को उत्तीर्ण करने के फलस्वरूप आपको प्रयोज्य योजना के अनुसार दो अग्रिम वेतन-वृद्धियों से पुरस्‍कृत किया गया। उप सचिव पदस्तर तक, आपने आयकर विभाग की विभिन्न शाखाओं जैसे आकलन, अन्वेषण व प्रशासन में कार्य किया।

 

वर्ष 1997 से 2001 के दौरान आपको यूपीएससी, नई दिल्लीे, भारत सरकार में उप सचिव(प्रशासन), पद पर प्रतिनियुक्त् किया गया। इस पद पर कार्य के दौरान आपने, यूपीएससी में कार्यरत लगभग 2200 कर्मचारियों के वेतन, एलटीसी दावों, एचटीसी व जीपीएफ अग्रिम/ निकासी के प्रभावी व कुशल निष्पादन के लिए इलेक्ट्रानिक क्लियरेंस सर्विस की परियोजना का सफल क्रियान्वयन किया।

आपने वाणिज्य मंत्रालय, भारत सरकार में तीन वर्षों (2002-2005) की अवधि के लिए शत्रु संपदा अभिरक्षक (निदेशक स्तर का पद) के पद पर कार्य किया। आपने संपूर्ण भारत में फैली विभिन्न संपत्तियों के मामलों व इनसे संबंधित विभिन्न याचिकाओं से संबंधित अदालती कार्रवाइयों में द्वितीय अपीलों व माननीय उच्चतम न्यायालय के समक्ष दायर विशेष अनुमति याचिकाओं से संबंधित मामलों का कार्यभार संभाला।

भारत सरकार में सात वर्षों के प्रतिनियुक्ति कार्यकाल के पश्चात, मूल कैडर में वापस आने पर आपने विभाग के वरिष्ठ प्रतिनिधि सहित अनेक पदों पर कार्य किया। वरिष्ठ प्रतिनिधि के रूप में आपने आयकर अपीलीय न्यायाधिकरण, मुंबई में दायर विभिन्न द्वितीयक अपीलों में विभाग का प्रतिनिधित्व किया। कमिश्नर (ऑडिट) के रूप में पदोन्नत किए जाने से पहले, आप, आयकर विभाग के प्रधान आयुक्त के रूप में भी कार्यरत रही हैं।

आपको, राजस्व विभाग द्वारा ‘‘लेट अस शेयर’’ शीर्षक के अंतर्गत कम्पाईलेशन ऑफ एक्सीलेंट ऑर्डर्स में योगदान के लिए ‘‘प्रशस्ति पत्र’’ से सम्मानित किया गया। आपको यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन से ‘‘प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एण्ड प्रिंसिपल्स’’ विषय पर प्रमाण पत्र तथा वर्ष 2016 में, ‘फाइनेंसियल मार्केट्स’ विषय पर यूनिवर्सिटी ऑफ याले से कोर्सेरा प्लेटफॉर्म पर प्रमाणपत्र प्रदान किया गया है।

भारत सरकार द्वारा कराए जाने वाले दीर्घकालिक प्रशिक्षण में, आपने एशियन इंस्टीिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, मनीला, फिलीपीन्स से डेवलपमेंट मैनेजमेंट में स्नातकोत्त‍र पाठ्यक्रम पूर्ण किया है। इस पाठ्यक्रम के दौरान आपकी शैक्षणिक प्रतिभा को देखते हुए आपको डीन्स लिस्ट में स्थान प्राप्त हुआ था। आपका, ‘इन-सर्विस मिड टर्म ट्रेनिंग’ में, आईआईएम, बैंगलुरू से इन्वेस्टिगेशन ट्रेनिंग सर्टिफिकेट के लिए तथा यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड, यूएसए के लिए भी चयन किया गया।

अपने प्रबं‍धकीय प्रशिक्षण में आपने अपना शोधपत्र, ‘प्रापर्टीज़ मैनेजमेंट एण्ड टैक्सेेशन’ विषय पर पूर्ण किया। रीजनल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट व नेशनल एकेडमी ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस, नागपुर में समूह- सी, बी व ए के कर्मचारियों के लिए आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रमों में व्याख्यान के लिए आपको आमंत्रित किया जाता रहता है।

श्रीमती रूबी श्रीवास्तव ने दिनांक 12 अप्रैल, 2017 को निदेशक (वित्त), एनपीसीआईएल के रूप में कार्यभार ग्रहण किया है।